केरल के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता ओमन चांडी का निधन, पीएम मोदी ने जताया दुख

0 13
केरल के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ओमन चांडी का निधन हो गया है। उनके परिवार के साथ-साथ केरल कांग्रेस अध्यक्ष के. सुधाकरन ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी। वह 79 वर्ष के थे। ओमन चांडी लंबे समय से बीमार चल रहे थे।
सुधाकरन ने ट्वीट किया कि उस राजा की कहानी जिसने प्रेम की शक्ति से दुनिया पर विजय प्राप्त की, उसका मार्मिक अंत हुआ। मैं एक दिग्गज ओमन चांडी के निधन से बहुत दुखी हूं। उन्होंने अनगिनत व्यक्तियों के जीवन को प्रभावित किया और उनकी विरासत हमेशा हमारी आत्माओं में गूंजती रहेगी।

 



वहीं, कांग्रेस केरल ने कहा कि चांडी काफी समय से ठीक नहीं चल रहे थे और इलाज के लिए बेंगलुरु में रह रहे थे। चांडी को सभी पीढ़ियों और सभी वर्गों द्वारा प्यार किया जाता है। कांग्रेस केरल ने ट्वीट किया कि हमारे सबसे प्रिय नेता और पूर्व सीएम ओमन चांडी को विदाई देते हुए बेहद दुख हो रहा है। ओमन चांडी, केरल के सबसे लोकप्रिय और उदार नेताओं में से एक थे। सभी वर्ग के लोग चांडी सर को पसंद करते थे। कांग्रेस परिवार उनके नेतृत्व और योगदान को याद करेगा।



पीएम मोदी ने निधन पर जताया दुख
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट कर ओमान चांडी के निधन पर दुख व्यक्त किया है। पीएम मोदी ने लिखा कि ‘ओमान चांडी जी के निधन से दुखी हूं। हमने एक विनम्र और समर्पित  नेता खो दिया है, जिन्होंने अपना जीवन सार्वजनिक सेवा के लिए समर्पित कर दिया और केरल की प्रगति के लिए काम किया। मुझे उनके साथ अपनी विभिन्न बातचीत याद है, खासकर जब हम दोनों ने हमारे संबंधित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के रूप में काम किया और बाद में जब मैं दिल्ली चला गया। इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार और समर्थकों के साथ हैं। उनकी आत्मा को शांति मिले।’

राहुल गांधी ने बताया सच्चा नेता
कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, राहुल गांधी और सोनिया गांधी ने ओमान चांडी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे। इस दौरान राहुल गांधी ने कहा कि चांडी जी केरल और भारत की आत्मा का प्रतिनिधित्व करते थे। वह केरल के लोगों के सच्चे नेता थे। हम उन्हें बहुत प्यार करते हैं और हमेशा उन्हें याद करेंगे। ओमान चांडी के परिजनों और समर्थकों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं।



ओमन चांडी का राजनीतिक सफर
ओमन चांडी दो बार 2004-06 और 2011-16 तक केरल के मुख्यमंत्री रहे। अनुभवी कांग्रेस नेता ने 27 साल की उम्र में 1970 के राज्य विधानसभा चुनावों में जीत हासिल करके विधायक के रूप में अपना कार्यकाल शुरू किया। इसके बाद वह लगातार 11 चुनाव जीते। चांडी ने पिछले पांच दशकों में केवल अपने गृह निर्वाचन क्षेत्र पुथुप्पल्ली का प्रतिनिधित्व किया।

साल 2022 में, वह 18,728 दिनों तक सदन में पुथुपल्ली क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करके राज्य विधानसभा के सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाले सदस्य बने थे। उन्होंने केरल कांग्रेस (एम) के पूर्व सुप्रीमो दिवंगत केएम मणि के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया था। चांडी ने अपने राजनीतिक जीवन के दौरान चार बार विभिन्न सरकारों में मंत्री और चार बार राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में कार्य किया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.