भाजपा सांसद ने पुलिस को पीटा!: नींद की आगोश में था शहर, खाकी से भिड़ रही थी खादी, अखाड़े में बदल गई पुलिस चौकी

0 87

कन्नौज:अपहरण के आरोपी को छुड़ाने के लिए पुलिस चौकी का घेराव करना और वहां तैनात पुलिसकर्मियों से मारपीट करने का मामला तूल पकड़ गया है। पुलिस की ओर से सांसद और उनके समर्थकों पर रिपोर्ट दर्ज होने के बाद इसे लेकर चर्चाओं का बाजार भी गर्म है। इस बीच लोग सांसद और पुलिस के बीच हुए टकराव की वजह को लेकर भी चर्चा करने लगे हैं।

दरअसल, उन्नाव के औरास युवक के अपहरण की सूचना पर शुक्रवार की रात उन्नाव पुलिस जिले में पहुंची थी। उन्नाव पुलिस ने कार्रवाई करते हुए पांच आरोपियों को हिरासत में लेकर मंडी चौकी पहुंच गई। गिरफ्तारी से नाराज भाजपा कार्यकर्ताओं ने मंडी पुलिस चौकी को घेर लिया। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने हंगामा किया। बीचबचाव कर रहे पुलिस कर्मियों को पीटा। मारपीट में मंडी चौकी इंचार्ज समेत सात पुलिस कर्मी घायल हो गए।

घायल पुलिस कर्मियों का रात में मेडिकल परीक्षण कराया गया। मामले की जानकारी मिलते ही एएसपी समेत कई थानों की पुलिस, स्वाट व सर्विलांस टीम व एक प्लाटून पीएसी मौके पर पहुंच गई। हालांकि उन्नाव पुलिस अपहरण किए गए युवक व पांच आरोपियों को सकुशल वापस ले गई। चर्चा है कि रात में ही कुछ भाजपा कार्यकर्ता एक आरोपी को उन्नाव से छुड़ा लाए थे। इस घटना को लेकर शहर में चर्चा का बाजार गर्म बना रहा। उन्नाव पुलिस ने चार अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार भी कर लिया है।

आपको बता दें कि शहर में शुक्रवार की रात जब अमूमन ज्यादातर लोग नींद की आगोश में थे, ठीक उसी दौरान शहर की गल्ला मंडी अलग किस्म के अखाड़ा का रूप ले चुकी थी। यहां पहले तो बड़ी संख्या में भाजपा के कार्यकर्ताओं का हुजूम पुलिस से जा भिड़ा, उसके बाद कार्यकर्ताओं के ही बुलावे पर पहुंचे सांसद ने भी अपने अलग ही तेवर दिखाए। इस पूरे घटनाक्रम के दौरान पुलिस बैकफुट में दिखी।

अपहरण के आरोपी को पकड़ने के लिए दबिश देकर वापस जा रही उन्नाव पुलिस को रोकने के लिए शुरू हुआ घटनाक्रम शुक्रवार की रात करीब 11:30 बजे से शुरू हुआ। जो एक घंटे से ज्यादा समय तक जारी रही। पहले कार्यकर्ताओं ने उन्नाव के औरास थाना की पुलिस को रोक कर आरोपियों को छुड़ाना चाहा। उसमें नाकामी मिलने पर यहां की मंडी पुलिस चौकी की टीम से भिड़ गए।

नाराजगी यह जताई कि मंडी चौकी की मदद से ही उन्नाव की पुलिस आरोपियों को पकड़ कर ले गई। उसके बाद कार्यकर्ताओं ने मोबाइल से यह बात सांसद सुब्रत पाठक तक पहुंचाई। सांसद के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाने वाले मंडी के चौकी प्रभारी हाकिम सिंह के मुताबिक जिस कार्यकर्ता अवनीश ने सांसद को फोन किया था, उस मोबाइल का स्पीकर ऑन था।

सांसद ने पहले तो गाली देते हुए नाराजगी जताई फिर आग लगाकर मारने की भी धमकी दे डाली। अगले 15 मिनट में उन्नाव पुलिस को वापस बुलाने को कहा। उसके बाद खुद भी पहुंच गए। चौकी प्रभारी के मुताबिक आते ही अवनीश से पूछा कि कौन है चौकी प्रभारी।

उसके बाद उन्होंने न सिर्फ कॉलर पकड़ कर गाली-गलौज की, बल्कि मारपीट भी की। चौकी प्रभारी के मुताबिक सहयोगी पुलिसकर्मियों ने बीच-बचाव किया। इस पूरे घटनाक्रम को लेकर पुलिसककर्मियों में नाराजगी देखने को मिल रही है।
Leave A Reply

Your email address will not be published.