हार्ट अटैक व ब्रेन स्ट्रोक के लक्षण व बचाव के उपाय

0 26

हापुड़: हापुड़ में मेट्रो हॉस्पिटल एव हृदय संस्थान नोएडा के द्वारा हापुड़ में मेट्रो हॉस्पिटल के कार्डियोलॉजी एवं न्यूरो एंड स्पाइनल सर्जन द्वारा ओपीडी शुरू की जा रही है हापुड़ शहर में हार्ट से संबंधित कोई भी स्पेशलिस्ट डॉक्टर ने होने के कारण यहां के मरीजों को इलाज के लिए मेरठ दिल्ली नोएडा जैसे बड़े शहरों में जाना पड़ता था लेकिन अब हापुड़ शहर के मरीजों को हार्ट से संबंधित व न्यूरो एंड स्पाइनल के मरीजों को दूसरे शहरों में जाने की आवश्यकता अब नहीं पड़ेगी क्योंकि अब हापुड़ में ही इन गंभीर बीमारियों के इलाज को लेकर डॉक्टर हफ्ते में अलग अलग दिन ओपीडी करेंगे जिससे इन बीमारियों के मरीजों को दूसरे शहरों में जाकर समय में पैसा बर्बाद करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी क्योंकि चाहे हार्टअटैक हो या ब्रेन स्ट्रोक ये दोनों ही बीमार इतनी खतरनाक है जिनमें मरीज को अगर समय से इलाज ना मिले तो उसकी मौत तक हो जाती है ।

 

इलाज से संबंधित जानकारियां वह बचाव के कारणों को बताने के लिए आज मेट्रो हॉस्पिटल के सीनियर कंसलटेंट डॉo विवेक प्रकाश अग्रवाल व न्यूरो एंड स्पाइन सर्जन डॉक्टर अनुतोष सिंह ने प्रेस वार्ता की जिसमें उन्होंने बताया कि जिस तरह से पिछले दो-तीन वर्षों में देखा जा रहा है कि अच्छे खासे लोगों की अचानक चलते फिरते नाचते गाते हार्ट अटैक से मौत के मामले बढ़ रहे हैं इसका कारण हमारी बदलती जीवनशैली और खानपान है लोग जंक फूड तेल वाले खाद पदार्थ ज्यादा खाने लगे हैं जो शरीर को नुकसान पहुंचाते हैं जिससे शरीर का कोलैस्ट्रोल अधिक बढ़ जाता है ऐसे ही अल्कोहल धूम्रपान करने से लीवर और फेफड़ों पर असर पड़ता है।

 

साथ में शरीर के अन्य हिस्सों को भी यह सभी चीजें प्रभावित करती है और साथ ही कोरोना के बाद युवाओं में बॉडी बनाने को लेकर ज्यादा ही जोश देखने को मिल रहा है इसके लिए युवा तमाम तरह के सप्लीमेंट का भी इस्तेमाल कर रहे हैं जो बहुत ही खतरनाक होते हैं इससे शरीर के ऑर्गन प्रभावित हो सकते हैं इसके अलावा शराब सिगरेट में अन्य लोगों के दिलों को कमजोर करते हैं हार्ट अटैक व ब्रेन स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियों से बचने के लिए लोगों को अपनी जीवनशैली में थोड़ा परिवर्तन करना होगा उसके लिए कम से कम आधा घंटा पैदल रोज अवश्य चले साथ ही जंक फूड व धूम्रपान में अल्कोहल का इस्तेमाल करना बंद कर दें इससे किसी हद तक इन गंभीर बीमारियों से बचा जा सकता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.