भ्र्ष्ट एई प्रशांत सेमवाल के खुलासे के बाद इस अभियंता का नाम आया सामने जानिए कौन है ?

Campaign against corruption in MDDA pays off, names of these officers along with Prashant Semwal surfaced...
0 62

ब्यूरो रिपोर्ट -विपुल पाण्डेय

 

खबर उत्तराखंड के देहरादून से है जहा पर आपको बता दे की भ्र्ष्ट एई प्रशांत सेमवाल के काले करतूतों का लगातार खुलासा हो रहा है और रोजाना उनकी काली करतूतों की एक कहानी आपको बताएंगे लेकिन आज भ्र्ष्ट एई प्रशांत सेमवाल के खुलासे के साथ ही एक और अभियंता का नाम सामने आया है जैसा ही पिछले खुलासे में हमने कई अभियंताओं का जिक्र किया था इसी कड़ी में एक नाम आता है एमडीडीए में तत्कालीन अवर अभियन्ता  गोविन्द सिंह  का जो की वर्तमान में हरिद्वार रुड़की विकास प्राधिकरण में सहायक अभियंता के पद पर तैनात है। बता दे की सीएम हेल्पलाइन में एक शिकायत में ये बताया गया है की  MDDA में काम कर रहे इंजीनियरों को पैसे के अलावा कुछ दिखाई नही देता है । पैसे दे दो ओर रिजेक्ट फाईल को भी पास करा लो ऐसा हम नहीं कह रहे है बल्कि शिकायत में कहा गया है दरसल मामला सुभाष रोड पर एक कामर्शियल निर्माण का है। जिसको गोविन्द सिंह तत्कालीन अवर अभियन्ता द्वारा पहले रिजेक्ट किया जाता है उसके बाद आरोप है की जब पैसो की सैटिंग हो गई तो गलत फाईल का बिना देखे ही पास कर दिया गया था। शिकायतकर्ता के मुताबिक़ मैप न0-C-0320/22-23  दीपक सत्यप्रकाश गोयल को पहले जवाब में लिखा जाता है की  ‘प्लॉट क्षेत्र के अनुसार केवल 9.00 ऊंचाई अनुमन्य वाणिज्यिक। . सेरेक्युलेशन क्षेत्र के बाद सेट बैक में लिफ्ट की अनुमति है। पार्किंग दृष्टिकोण नहीं दिखाया गया है इसके बाद फ़ाइल को  रिजेक्ट कर दिया था। परन्तु C-0320/22-23RE1 फाईल को जैसे पहले थी उसी प्रकार पास कर दिया गया ,  जब सैट बैक को खाली छोडना होता है  तो लिफ्ट क्यों पास कर दी  है। ये अब बड़ा सवाल उठ रहा है।  बता दे की तत्कालीन अवर अभियन्ता द्वारा ऐसे गलत नक्शे पास किए गये थे जो एक चिन्ता का विषय है। शिकायतकर्ता ने मैप की जॉच कराकर उचित कार्यवाही करने की मांग मुख्यमंत्री कार्यलय से की है हालांकि ये कोई एक मामला वर्तमान समय में हरिद्वार रुड़की विकास प्राधिकरण में तैनात सहायक अभियंता गोविन्द सिंह की नहीं है ना जाने कितनी गलत फाइलें पास की गयी है और इनके द्वारा पहले फाइलों को रिजेक्ट किया जाता था उसके बाद उन्ही फाइलों को मोटी रकम लेकर पास कर दिया जाता था आरोप है की इन्होने इसी बलबूते पर अवैध सम्पतिया अपने गृह जनपद बिजनौर और हरिद्वार में हासिल की है जो की जांच का विषय है जिसका खुलासा जल्द होने जा रहा है साथ ही बाकी अभियंताओं का भी खुलासा होगा जिन्होंने अपने फायदे के लिए सरकार को चूना लगाया और अपनी जेबे भरी है और गलत फाइलें पास की है ,हम उन सभी आर्किटेक का आभार व्यक्त करते है जिन्होंने तकनिकी सहयोग करके इस भ्र्ष्टाचार को मिटाने का हमारे साथ संकल्प लिया है,और लगातार सहयोग कर रहे है भ्र्ष्टाचार की लड़ाई बड़ी लम्बी है आप सभी का साथ जरूरी है अगर आपके पास भी भ्र्ष्टाचार से जुड़े कोई मामले हो तो आप हमें भेज सकते है और हमारी मदद इस लड़ाई में कर सकते है हमारा सम्पर्क है 8287526017 आपकी बात गोपनीय रखी जाएगी और आप भी एक  भ्र्ष्टाचार को खत्म करने में जिम्मेदार नागरिक बन सकते है जल्द एक और बड़े खुलासे के साथ पढ़ते रहिये भ्र्ष्ट एई प्रशांत सेमवाल के साथ बाकी अभियंता की काली करतूतों के काले कारनामे

 

काले करतूतों की पूरी सीरीज नीचे आप देख सकते है रोज एक खुलासे के साथ 

एमडीडीए में भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम लाई रंग, प्रशांत सेमवाल के साथ इन अधिकारियों का नाम आया सामने…

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.