नदी में मिले दो टांगों और एक पैर के पंजे के रहस्य से जल्दी पर्दा उठाने के लिए एसएसपी ने घटनास्थल का दौरा कर दिए आवश्यक निर्देश

0 31

उधम सिंह नगर जिला के केलाखेड़ा में रामपुरा काजी गांव में 2 दिन पूर्व बोर नदी में मिले दो टांगें और एक पैर के पंजे के रहस्य से आज तीसरे दिन पुलिस अभी तक पर्दा नहीं उठा पाई है। तीसरे दिन आज जिले के पुलिस कप्तान डॉक्टर मंजूनाथ टिसि ने काशीपुर पुलिस अधीक्षक अभय सिंह के साथ घटनास्थल का निरीक्षण किया तथा अधीनस्थों को घटना के खुलासा करने के लिए निर्देशित किया।

आपको बता दें कि दो दिन पूर्व एक सूचना मिलते ही पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। जहाँ रम्पुरा काजी में एक जोगिंदर कौर नामक महिला जोकि 5 भाई और एक सौतेले भाई के साथ यहां रहती थी। इसके भाइयों ने पुलिस को गुमशुदगी की सूचना दी।

 

जिसके बाद पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए महिला की गुमशुदगी की प्राथमिकी दर्ज करते हुए कार्यवाही अमल में लानी ही शुरू कर दी थी कि इसी बीच स्थानीय लोगों ने घर के पास 100 मीटर दूरी पर स्थित बौर नदी में दो पैर और एक पैर का पंजा तथा कपड़ा बरामद हुआ। मौके पर डॉग स्क्वायड के साथ-साथ फॉरेंसिक टीम के द्वारा भी जांच की गई और वहीं दूसरी तरफ उत्तराखंड जल पुलिस के गोताखोर भी बाकी शरीर की तलाश करने में अभी भी जुटे हुए हैं। मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है

 

 

और मामले के खुलासे के लिए पुलिस की अलग-अलग टीमें बनाई गई हैं। घटना के तीसरे दिन आज जिले के पुलिस कप्तान डॉक्टर मंजूनाथ टिसि ने काशीपुर पुलिस अधीक्षक अभय सिंह और सीओ बाजपुर के साथ मृतका जोगिंदरो बाई के घर पहुंचकर क्राइम सीन क्रिएट किया तथा घर से लेकर घटनास्थल का निरीक्षण किया।

 

जिले के पुलिस कप्तान मंजूनाथ टिसि ने इस दौरान मीडिया से बात करते हुए कहा कि नदी में मिले कपड़ों से जोगिंदरो के परिजनों ने मिले पैर के टुकड़े जोगिन्द्रों के होने का दावा किया। उन्होंने कहा कि मानव अंगों के हत्या की तरफ इशारा करने की तरफ देखते हुए मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है। हमारी सभी टीमें अच्छी तरह से काम कर रही हैं और विभिन्न मजबूत लीड को हम देख रहे हैं। साथ ही पुलिस को अच्छे सुराग मिले है। उम्मीद की जा रही है

 

कि अच्छे इनपुट और महत्वपूर्ण सुरागों के आधार पर जल्द ही केस का खुलासा होगा। नदी में मिले एक अन्य पैर के पंजे के बारे में उन्होंने कहा कि उसकी पहचान के बारे जब तक कन्फर्म नहीं हो पाएगा जब तक उसके बारे में आकर कोई क्लेम न कर दे। उन्होंने कहा कि इसके बारे में भी पुलिस के पास काफी इनपुट्स हैं लेकिन जब तक कोई आकर क्लेम ना कर दे तब तक कुछ भी दावे के साथ कहना मुश्किल है। टीमों की प्रक्रिया जारी है। घटनास्थल का निरीक्षण करने के बाद उन्होंने अधीनस्थों से अब तक तीन दिनों में हुई उन्नति की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि लापता हुई महिला जोगिंदरो के बारे में वह कंफर्म है क्योंकि उनके परिवार के सदस्यों ने पैर में गांठ और कपड़ों के आधार पर टांगों की पहचान कर ली है।

 

पंजे के बारे में अभी कुछ भी कहना मुश्किल है। इस बारे में पुलिस की जांच अभी जारी है और कुछ भी उन्नति होने पर अवगत कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि गांव की ही घटना है और आरोपी भी गांव के ही हैं, मृतका भी गांव की है, घटनास्थल गांव का ही है, बहाया भी गांव के किनारे नदी में गया है तो इसके खुलासे के लिए वैसे तो पुलिस की विभिन्न टीमों का गठन किया गया है लेकिन कम से कम चार टीमों का गठन अवश्य किया गया है। 24 घंटे से भी अधिक का समय हो चुका है लेकिन अभी तक पुलिस और शरीर का कोई अन्य अंग नहीं खोज पाई है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.