खतना मामले में बड़ी कार्रवाई: बरेली के डॉ. एम खान अस्पताल का लाइसेंस निलंबित, शासन को भेजी जाएगी जांच रिपोर्ट

0 44

बरेली में तोतलेपन का इलाज कराने पहुंचे बच्चे का खतना करने के मामले में जांच कमेटी ने प्रथम दृष्टया अस्पताल प्रबंधन को जिम्मेदार मानते हुए लाइसेंस निलंबित कर दिया है। पीड़ित परिवार ने बयान में अस्पताल प्रबंधन पर सही जानकारी न देने की बात कही है। हालांकि, अभी अभिलेखों की जांच बाकी है। दो दिन में जांच पूरी कर विस्तृत रिपोर्ट शासन को भेजने की बात सीएमओ ने कही है।

 

स्टेडियम रोड स्थित एम खान अस्पताल में शुक्रवार को संजय नगर के एक हिंदू दंपती अपने दो साल के बेटे का तोतलेपन का इलाज कराने पहुंचे थे। आरोप है कि तालू के ऑपरेशन के बजाय बच्चे का खतना कर दिया गया।

 

हिंदू संगठनों ने किया था हंगामा 

हिंदू संगठनों ने हंगामा काटा तो पुलिस के साथ आईएमए पदाधिकारी भी पहुंच गए। देर शाम पिता ने बारादरी थाने में तहरीर दी थी। मामला सुर्खियों में आने पर शनिवार को उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने सीएमओ को कमेटी गठित कर जांच कराने के निर्देश दिए थे।

गठित चार सदस्यीय कमेटी ने पहले अस्पताल प्रबंधन के बयान दर्ज किए थे। रविवार को टीम पीड़ित परिवार का बयान दर्ज करने पहुंची। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक परिजनों ने बयान में कहा है कि स्टाफ ने अंग्रेजी में लिखी फाइल पर हस्ताक्षर कराए थे। हस्ताक्षर के दौरान परिजनों ने कहा था कि उन्हें अंग्रेजी समझ में नहीं आती पर डॉक्टर ने कोई खास बात नहीं कहकर हस्ताक्षर करने को कहा।

डॉक्टर की बात सही मानकर उन्होंने हस्ताक्षर कर दिया था। ऑपरेशन के बाद स्टाफ ने दोबारा बच्चे को वार्ड में लिटा दिया। गर्मी लगने पर कपड़े हटाए तो मूत्र मार्ग पर पटटी बंधी थी। अस्पताल प्रबंधन पर सही जानकारी न देने और षड्यंत्र के तहत खतना का आरोप लगाया है।
Leave A Reply

Your email address will not be published.