नदी में मिले दो टांगों और एक पैर के पंजे के रहस्य से पर्दा उठने से पहले हुआ विचित्र अंतिम संस्कार

0 63

उधम सिंह नगर जिले के केलाखेड़ा में रामपुरा काजी गांव में बीते 3 दिन पूर्व बोर नदी में मिले दो टांगें और एक पैर के पंजे के रहस्य से पुलिस आज चौथे दिन भी पर्दा नहीं उठा पाई और आज चौथे दिन पुलिस के हाथ खाली रहे लेकिन मृतका जोगिंदरो के परिजनों ने आज 3 दिन पूर्व बौर नदी में मिली दोनों टांगों का अंतिम संस्कार कर दिया। वहीं बीते रोज जिले के पुलिस कप्तान डॉक्टर मंजूनाथ टिसि ने काशीपुर पुलिस अधीक्षक अभय सिंह के साथ घटनास्थल का निरीक्षण किया तथा अधीनस्थों को घटना के खुलासा करने के लिए निर्देशित किया था।

 

 

आपको बता दें कि आज से 3 दिन पूर्व उधम सिंह नगर जिले के किलाखेड़ा के रामपुरा काजी गांव में रहने वाली एक जोगिंदर कौर नामक महिला जोकि 5 भाई और एक सौतेले भाई के साथ रहती थी। इसके भाइयों ने पुलिस को गुमशुदगी की सूचना दी। जिसके बाद पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए महिला की गुमशुदगी की प्राथमिकी दर्ज करते हुए कार्यवाही अमल में लानी ही शुरू कर दी थी कि इसी बीच स्थानीय लोगों ने घर के पास 100 मीटर दूरी पर स्थित बौर नदी में दो पैर और एक पैर का पंजा तथा कपड़ा बरामद हुआ। मौके पर डॉग स्क्वायड के साथ-साथ फॉरेंसिक टीम के द्वारा भी जांच की गई और वहीं दूसरी तरफ उत्तराखंड जल पुलिस के गोताखोर भी बाकी शरीर की तलाश करने में अभी भी जुटे हुए हैं। मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है

 

और मामले के खुलासे के लिए पुलिस की अलग-अलग टीमें बनाई गई। घटना के शीघ्र खुलासे को लेकर बीते रोज जिले के पुलिस कप्तान डॉक्टर मंजूनाथ टिसि ने भी काशीपुर पुलिस अधीक्षक अभय सिंह और सीओ बाजपुर के साथ मृतका जोगिंदरो बाई के घर पहुंचकर क्राइम सीन क्रिएट किया तथा घर से लेकर घटनास्थल का निरीक्षण किया। मामले में आज चौथे दिन भी पुलिस को कोई खास सफलता हाथ नहीं लग सकी

 

वही मृतिका जोगिंदरो के परिजनों ने आज गमगीन माहौल में नदी से मिले जोगिंदरो के दोनों पैरों का अंतिम संस्कार कर दिया हालांकि यह अपने आप में एक विचित्र तरह का अंतिम संस्कार था। एसपी काशीपुर अभय सिंह ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि जोगिंदरो कौर के परिजनों के द्वारा गुमशुदगी की सूचना मिलने के बाद परिजनों के साथ खोजबीन के दौरान तीन दिन पूर्व 6 जून को घर से कुछ मीटर की दूरी पर बह रही बौर नदी में मिले मानव अंगों के पंचायतनामा और पोस्टमार्टम की कार्यवाही के बाद डीएनए सैम्पलिंग कराया गया है। वही जोगिन्द्रों के परिजनों के द्वारा मानव अंगों में से मिली टांगों की पहचान के बाद उनकी परिजनों को सुपुर्दगी करने के बाद परिजनों ने आज गमगीन माहौल में रीति रिवाज के साथ अंतिम संस्कार कर दिया। उन्होंने बताया कि डीएनए सैंपल को परीक्षण के लिए माननीय न्यायालय के जरिए एफएसएल को भेजा जाएगा। पुलिस के द्वारा शरीर के बाकी अंगों की बरामदगी के लिए नदी में सर्च अभियान जारी है लेकिन अभी पुलिस को कोई सफलता हाथ नहीं लगी है

 

रिपोर्ट- हरीश सैनी

Leave A Reply

Your email address will not be published.