सीएम हेल्पलाइन और विजलेंस में दर्ज हुआ मुकेश सिंघल का मामला

0 22

ब्यूरो रिपोर्ट

उत्तराखंड सचिवालय में एक सचिव के लिए सारे नियम ताक पर रख दिए जाते हैं। एक दिन में ही इस अधिकारी को दो दो बार प्रमोशन दे दिया जाता है। प्रमोशन और ग्रेड पे में बढ़ोतरी का ऐसा उदाहरण न तो केंद्र सरकार में मिलेगा औऱ न ही किसी अन्य राज्य में विधानसभा सचिवालय का एक आदेश है। जिसमें एक अधिकारी को एक ही दिन दो अलग अलग पदों पर प्रमोट किया जाता है। 24 फऱवरी 2022 को जारी आदेश के अनुसार विधानसभा सचिवालय में तैनात अपर सचिव मुकेश सिंघल को 31 दिसंबर 2021 को सचिव पद पर प्रमोशन मिलता है। उनका वेतन 1 लाख 31 हजार 100 रुपए होता है। लेकिन इसी आदेश को विस्तार से देखें तो उक्त अधिकारी को सचिव पद पर प्रमोशन देते हुए उसका वेतन एक लाख 44 हजार 200 रुपए कर दिया जाता है। यही नहीं जुलाई 2022 में फिर से इस अधिकारी के लिए वेतन वृद्धि प्रस्तावित है।यानी दिसंबर में प्रमोशन पाए अधिकारी को दो माह बाद फऱवरी में फिर से पदोन्नति मिल जाती है। 2 महीने में यह अधिकारी लेवल-12 से लेवल-13ए और लेवल-13ए से लेवल-14 तक पहुंच जाता है। ऐसी छलांग भारत में शायद ही किसी अधिकारी ने लगाई हो। भारत सरकार के प्रशासनिक सेवा में आने वाले आईएएस भी लेवल 10 में भर्ती होते हैं। लेवल 14 के वेतनमान तक आने में उन्हें करीब 25 साल का समय लग जाता है। लेकिन उत्तराखंड़ में कुछ भी संभव हो जाता है। यहां एक अधिकारी एक ही तारीख के आदेश से दो दो बार प्रमोशन पा जाता है। दिलचस्प ये है कि ये आदेश मुख्य कोषाधिकारी को भी भेजा गया है जहां से वेतन निकलना है। इस मामले की शिकायत अब सीएम हेल्पलाइन और विजिलेंस में विपुल पाण्डेय द्वारा की गयी अगर मामले में कार्यवाई नहीं हुई तो विपुल पाण्डेय का कहना है की वो कोर्ट की तरफ रुख करेंगे

Leave A Reply

Your email address will not be published.