उत्तराखंड में कांग्रेस के भीतर गुटबाजी थमने के स्थान पर चरम पर, माहरा-प्रीतम एक दूसरे पर बरसे

0 8

देहरादून :  प्रदेश में कांग्रेस के भीतर गुटबाजी थमने के स्थान पर चरम पर का नाम नहीं ले रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा ने प्रदेश में संगठन में क्षेत्रीय व जातीय संतुलन को लेकर पूर्व कैबिनेट मंत्री व विधायक तिलकराज बेहड़ और पूर्व नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह को निशाने पर लिया। वहीं प्रीतम सिंह ने पलटवार करने में देर नहीं लगाते हुए माहरा को पार्टी के भीतर उचित फोरम पर बात रखने की नसीहत दे डाली।

 

पत्रकारों से बातचीत में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा ने प्रदेश में कांग्रेस में क्षेत्रीय व जातीय संतुलन की उपेक्षा को लेकर किच्छा विधायक एवं पूर्व मंत्री तिलकराज बेहड़ के बयान पर पलटवार किया। बेहड़ का नाम लिए बगैर उन पर भाजपा नेता व केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट की तारीफ करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जिस भाजपा की तारीफ की जा रही है, वहां संगठन में इस प्रकार संतुलन को मुद्दा नहीं बनाया जाता। अजय भट्ट जब भाजपा प्रदेश अध्यक्ष थे तो साथ में नेता प्रतिपक्ष भी थे।

पूर्व नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह पर भी प्रदेश प्रभारी को लेकर दिए गए बयान के लिए उन्होंने निशाना साधा। उन्होंने कहा कि प्रभारी पर बयान गैर जरूरी है। प्रभारी की तैनाती पार्टी हाईकमान ने की है। उनके विरुद्ध बयान हाईकमान के विरुद्ध माना जाएगा। प्रभारी के निर्देश पर ही प्रदेश में कांग्रेस कार्यकत्र्ता हर सप्ताह आंदोलन कर रहे हैं। जोशीमठ से लेकर तमाम विषयों को पार्टी प्रमुखता से उठा रही है।

उधर, पूर्व नेता प्रतिपक्ष और चकराता से कांग्रेस के लगातार छठी बार के विधायक प्रीतम सिंह ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा पर पलटवार किया। नसीहत देते हुए उन्होंने कहा कि करन माहरा को भी उचित प्लेटफार्म पर अपनी बात रखनी चाहिए।

यह नियम सभी पर लागू होता है तो अध्यक्ष को भी इसका पालन करना होगा। उन्होंने कहा कि पार्टी हाईकमान ने समय-समय पर प्रदेश की स्थिति का संज्ञान लिया है। पार्टी का एक-एक कार्यकत्र्ता राष्ट्रीय नेतृत्व के प्रति समर्पित है।

माहरा के प्रीतम पर प्रदेश अध्यक्ष रहते प्रदेश का दौरा नहीं करने के आरोप के जवाब में उन्होंने कहा कि वह कुछ नहीं कर पाए, लेकिन नए अध्यक्ष ज्यादा सक्रिय हैं तो उनकी ओर से शुभकामनाएं। तिलकराज बेहड़ के बयान पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र है।

  • प्रदेश कार्यकारिणी अब कर्नाटक चुनाव के बाद होगी घोषित

प्रदेश कांग्रेस की कार्यकारिणी घोषित होने में और अधिक समय लगने के संकेत हैं। माना जा रहा है कि अब कर्नाटक चुनाव के बाद प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा की जा सकती है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा की नई टीम को लेकर प्रतीक्षा समाप्त होने का नाम नहीं ले रही है ।यद्यपि, नई कार्यकारिणी से पहले जिलाध्यक्षों की सूची घोषित की जा चुकी है। कांग्रेस इंटरनेट मीडिया के प्रदेश अध्यक्ष व समन्वयकों की सूची भी एआइसीसी जारी कर चुकी है। प्रदेश महिला कांग्रेस कार्यकारिणी और जिलाध्यक्षों की सूची भी घोषित की गई है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.