एमडीडीए से नक्शा कैंसिल होने पर, भूमाफिया की फोन पर पत्रकार को जान से मारने की धमकी

0 67

VN News Deharadoon : प्रदेश की राजधानी में अवैध रूप से चल प्लाटिंग व गलत नक्शा पास करने के मामले को खबर की सुर्खियां बनाने पर भूमाफिया ने पत्रकार को फोन कर जान से मारने की धमकी दी है। आरोप लगाया कि तुम्हारी वजह से ही एमडीडीए ने मेरा गलत नक्शा पास करने के बाद कैंसिल कर दिया। इसके जिम्मेदार तुम हो, अब मैं तुम्हें नही छोड़ूंगा। वहीं एमडीडीए के अफसरों पर भूमाफिया से धमकी दिलाने का आरोप लगा है।

प्रदेश की राजधानी के एमडीडीए क्षेत्र में अवैध प्लाटिंग का धंधा जोरों पर चल रहा है। बीते दिनों पत्रकार विपुल पाण्डेय ने मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण क्षेत्र में अवैध रूप से चल रही प्लाटिंग व एमडीडीए के सहायक अभियंता द्वारा गलत नक्शा पास करने और भूमाफियाओं को संरक्षण देने के गठजोड़ को उजागर किया था। इसके बाद मामला एमडीडीए के वीसी तक पहुंचने पर जांच में मामला सही पाया गया।

 

एमडीडीए द्वारा पिछले तीन वर्षों से यहां अवैध रूप से चल रही एक प्लाटिंग के ध्वस्तीकरण कर कार्रवाई के लिए नोटिस जारी किया जा रहा था। लेकिन भूमाफियाओं की अधिकारियों से मिलीभगत के चलते आज तक कोई कार्रवाई नही की गई। मामला मीडिया में सुर्खियां बनने पर एमडीडीए ने 14 मई को फिर नोटिस जारी किया और 16 मई को अवैध रूप से चल रही प्लाटिंग को ध्वस्तीकरण के आदेश दिए गए थे। पूर्व की तरह इस बार भी एमडीडीए के अफसरों ने ध्वस्तीकरण की कार्रवाई नही की।

 

हुआ यूं कि जब एमडीडीए के वीसी ने मामले की जांच कराई तो प्राधिकरण क्षेत्र के खाला गांव आदि में श्यामसुंदर गोयल व उसके सहयोगी संजीव तोमर और उसके साथियो द्वारा अवैध प्लाटिंग की जा रही है। आरोप है दोनो भूमाफिया सहायक अभियंता से मिली भगत के जरिए अवैध प्लाटिंग का धंधा धड़ल्ले से कर रहे है। यही वजह कि कई बार ध्वस्तीकरण के आदेश के बाद भी सहायक अभियंता ने ध्वस्तीकरण की कार्रवाई नही की।

 

अवैध प्लॉटिंग करने वाले माफियों में इस तरह हड़कप मचा की कार्रवाई से भड़के भूमाफिया के गुर्गे ने शनिवार को पत्रकार वीके पांडेय के मोबाइल पर फोन कर जान से मारने की धमकी दी। और झूठ बोलते हुए कहा कि तुम्हारी वजह से मेरा पास हुआ नक्शा एमडीडीए ने कैंसिल कर दिया है। अब मैं तुम को छोड़ूंगा नही। तुम्हे तलाश रहा हूं। मिलने पर इसका खामियाजा भुगतना होगा। भूमाफिया से धमकी मिलने के बाद पत्रकार का कहना है कि वह धमकियों से डरने वाले नही है। उन्होंने आरोप लगाया कि भूमाफिया से धमकी दिलवाने के पीछे सहायक अभियंता का हाथ है। उन्होंने ही भूमाफिया को मेरा मोबाइल नम्बर उपलब्ध कराया है। अगर मेरे साथ कोई अनहोनी होती है तो भूमाफिया के साथ सहायक अभियंता प्रशांत सेमवाल जिम्मेदार होंगे। क्युकी एई प्रशांत सेमवाल एवं संबंधित भूमाफियों के हौसले इतने बुलंद इसलिए हो पा रहे है की क्युकी इतनी सबूत सहित शिकायतों के बाद भी वीसी साहब द्वारा कोई कार्यवाई नहीं की गयी |

Leave A Reply

Your email address will not be published.